jan aushadhi kendra | pradhan mantri jan aushadhi kendra

jan aushadhi kendra

pradhan mantri jan aushadhi kendra | jan aushadhi kendra | प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र

 

आप किसी शहर, कस्बे या गांव में रहते हैं. किसी रेंगुलर इंकम की तलाश में है. बेरोजगार है. किसी काम की तलाश में है, तो प्रधानमंत्री जन औषधी सेंटर pradhan mantri jan aushadhi kendra की फ्रेंचाइजी लेकर बिजनेस को शुरू करें और प्रतिमाह 15 से 20 हजार रूपए की कमाई करें.

pradhan mantri jan aushadhi yojana योजना का एक नया अपडेट आया है कि अब इसके लिए लगने वाले आवेदन फीस और प्रोसेसिंग फीस को खत्म कर दिया गया है. यानी अब आपको मेडिकल स्टोर खोलने के लिए किसी तरह का निवेश नहीं करना पड़ेगा.

प्रधानमंत्री जन औषधी परियोजना क्या है?

बढ़ते दवाईयों के दाम की वजह से गरीबों को कम कीमत पर दवाईयां उपलब्ध करवाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 1 जुलाई 2015 को जन औषधी योजना की घोषणा की गई थी.

प्रधानमंत्री जन औषधी pradhan mantri jan aushadhi अभियान मूलतः जनता को जागरूक करने के लिए शुरू किया गया है. ताकि लोगों को समझा सके कि ब्रांडेड मेडिसीन की तुलना में जेनरिक मेडिसीन की कीमत कम होती है. कीमत कम होने के बावजूद इन दवाईयों की क्वालिटी, ब्रांडेड दवाईयों की तुलना में किसी भी तरह से कम नहीं है.

Jan Aushadhi योजना के तहत सरकार जेनरिक दवाइओं के बाजार मूल्य से कम दाम में बेचने के लिए पूरे देश में 3000 जन औषधी केन्द्र खोलने का घोषणा की थी.

जिसमें से एक हजार से अधिक जन औषधी केन्द्र Jan Aushadhi पूरे देश में खुल चुके है. इन औषधी केन्द्रों पर दवाईयां बाजार मूल्य से 60 से 70 प्रतिशत कम कीमत पर मुहैया कराई जाएगी.

 

इसे भी पढ़े :-

 

जन औषधी सेंटर की केटेगिरी

जन औषधी सेंटर Jan Aushadhi खोलने के लिए सरकार द्वारा तीन केटेगिरी बनाई गई है.
1. कोई भी व्यक्ति बेरोजगार फामेस्टि, डाॅक्टर, रजिस्टर्ड मेडिकल प्रेक्टिशनर, स्टोर खोल सकेंगे.
2. ट्रस्ट, एनजीओ, प्राइवेट हाॅस्पिटल, सोसायटी और सेल्फ हेल्प ग्रूप को स्टोर खोलने का मौका मिलेगा.
3. राज्य सरकार द्वारा नाॅमिनेट की गई एजेंसी होगी.

जन औषधी सेंटर खोलने के लिए जगह

औषधी सेंटर खोलने के लिए 120 वर्गफुट एरिया का होना आवश्यक है. जहां पर दवाईयों को रखने और आसानी से डिस्प्ले हो सकें.

औषधी सेंटर खोलने पर सरकार द्वारा 650 से अधिक दवाईयां और 100 से अधिक इक्यूपमेंट बेचने के लिए उपलब्ध कराया जाएगा, जो इन्हें जन औषधी डिस्ट्रीब्यूटर्स के जरिए सप्लाई दी जाएगी.

प्रधानमंत्री जन औषधी योजना से होने वाला लाभ

 

इसे भी पढ़े :-

SIDBI (भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक)

– कम कीमत पर दवाई के साथ-साथ गुणवत्ता की पूरी गारंटी

– घातक बीमारियों के उपचार के लिए जेनरिक दवाईयां उपलब्ध कराई जाएगी जो लोगों के बजट में होगी.

– जेनरिक दवाओं के प्रति जनता को जागरूक करने का कार्य भी जन औषधी के तहत होगा.

– जेनरिक दवाओं की बिक्री के लिए विक्रेताओं को भी इसकी गुणवत्ता के प्रति जागरूक करने का कार्य जन औषधी अभियान के तहत होगा.

– जन औषधी के तहत डाॅक्टर एवम सरकारी अस्पतालों में भी जेनरिक दवाओं की गुणवत्ता समझाते हुए उन्हें मरीज को यहीं दवाएं पर्चे पर लिखकर देने के लिए बाध्य किया जाएगा जिससे जनता के पैसे बच सकें.

– साथ ही साथ जेनरिक दवाएं उपलब्ध करवाने की जिम्मेदारी भी जन औषधी अभियान के तहत होगी.
प्रधानमंत्री जन औषधी केंद्र खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज

– व्यक्तिगत जनऔषधी सेंटर खोलने के लिए आधारकार्ड एंव पेन कार्ड की आवश्यकता होगी.

– संस्थान, एनजीओ, हाॅस्पिटल, चैरिटेबल संस्था द्वारा आवेदन करने के लिए आधार कार्ड, पेनकार्ड के अलावा इनके गठन का प्रमाणपत्र एंव पंजीयन प्रमाण पत्र की आवश्यकता होगी.

 

इसे भी पढ़े :-

 

सरकार द्वारा दी जाने वाली सहायता

– दवाईयों पर प्रिंट कीमत से 16 प्रतिशत का प्राॅफिट.

– दो लाख रूपयों की वित्तीय सहायता (केवल एक बार) अब यह राशि ढ़ाई लाख रूपये कर दी गई है.

– 12 महीनों के लिए उसकी सेल का 10 प्रतिशत इसेंटिव दिया जाएगा. अधिकतम 10 हजार रूपए हर महीने होगा.

– पूर्वोत्तर राज्यों, नक्सली प्रभावित इलाकांे, आदिवासी इलाकों में यह इंसेटिव 15 प्रतिशत और इंसेटिव सभी राशियों पर 15000 रूपए हर महीने होगा.

– सेंटर शुरू करने पर एक लाख रूपए की दवाईयां पहले आपको खरीदनी होगी बाद में सरकार इसे मंथली बेसिक पर इंबर्समेंट करेगी.

– सरकार द्वारा दुकान शुरू करने के लिए फर्नीचर, रैक, डेस्क, फीज आदि के लिए एक लाख रूपए और कंप्यूटर आदि के लिए 50 हजार रूपए तक खर्च करने के लिए देंगी.

 

और अधिक जानकारी प्रधानमंत्री जन औषधी परियोजना के वेबसाइट पर जाकर ले सकते है. इसका लिंक नीचे दिया गया है. लिंक पर क्लिक करके आप प्रधानमंत्री जन औषधी परियोजना के वेबसाइट पर पहुंच जाएगें.

http://janaushadhi.gov.in/

 

इसे भी पढ़े :-

महिलाओं के लिए बैंकों की खास योजनाएं

Share Button

Related posts

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.