जाॅब एजेंसी : बेरोजगार युवाओं को रोजगार उपलब्ध करवाना

Job & Career Placement Agency

ऐसे बेरोजगार युवाओ से छोटी राशि फीस के रूप में लेकर उनका किसी कंपनी या ऑफिस में जाॅब दिलवाने का काम जाॅब एजेंसियां करती हैं इस तरह से जाॅब एजेंसी लोगों को जॉब उप्लबद्ध करवा कर लाखों रुपए कमाती हैं.

आजकल स्कूल, काॅलेज, इंस्टीट्यूट, काॅरपोरेट आॅफिस, कारखानों, प्रायवेट बैंक आदि में रोजगार के काफी अवसर है. इन संस्थाओं में अपने यहां खाली पदो के लिए योग्य युवाओं की तलाश रहती है. लेकिन उनके पास इतना समय नहीं होता है कि वे किसी एक पद के लिए एड पब्लिस करें.

इसे भी पढ़े :-

फेंगशुई आयटम का बिजनेस

यदि कोई संस्थान एड पब्लिस करती भी है तो बेरोजगारों की संख्या इतनी अधिक है कि जो उस पद के लिए उपयुक्त नहीं है वे भी उसके लिए आवेदन कर देते है. ऐसे में संस्थान को उस भीड़ में से योग्य उम्मीदवार की तलाश करने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है.

इस तरह की परेशानी से बचने के लिए संस्थानं जाॅब एजेंसी का सहारा लेती है. जाॅब एजेंसी अपने यहां से उस संस्थान के लिए उपयुक्त उम्मीदवार भेंजते है. इसके बदले में संस्थान, जाॅब एजेंसी को एक मुस्त रकम देती है. यह रकम एजेंसी के टर्म एण्ड कंडीशन के आधार पर तय होता है. एजेंसी चाहे तो उम्मीदवार की नौकरी लगने पर उससे भी फीस के तौर पर कुछ रकम ले सकती है.

आज के दौर में जाॅब एजेंसी शुरू करके कम समय में अच्छा खासा कमाया जा सकता है. इसे शुरू करने के लिए आपको एक छोटा ऑफिस खोलना होगा जिसमें कम्प्युटर, इंटरनेट कनैक्शन और प्रिंटर कि आवश्यकता होगी.

जाॅब एजेंसी कैसे शुरू करें

जाॅब एजेंसी आप दो तरह से कर सकते है. पहला है आॅनलाइन और दूसरा है आॅफलाइन. आॅनलाइन के लिए आपको एक जाॅब पाॅर्टल बनाना होगा. पोर्टल ऐसा होना चाहिए, जिसमें जरूरतमंद युवा रजिस्टेशन करके मेम्बर बनें और अपना नाम, प्रोफाइल और अन्य जानकारी एंट्री कर सकें.

इसे भी पढ़े :-

 

मुंबई के फेमस ब्रेक फास्ट

आॅफलाइन जाॅब एजेंसी में बेरोजगार युवा स्वयं ही आपके आॅफिस में आकर अपना नाम रजिस्टर्ड करवाते हैं. नाम रिजस्र्टड के दौरान ही उनसे फीस जमा करवाई जाती है. यह फीस 100 रूपए से लेकर 1000 रूपए तक मंथली या सालाना होती है.

आप चाहे तो आॅन लाइन या आॅफ लाइन जाॅब एजेंसी शुरू करें, लेकिन आपके एजेंसी का एक जाॅब पोर्टल होना चाहिए. इससे एजेंसी की वेल्यु बढ़ती है और एजेंसी में दूर-दराज से भी बेरोगार लोग अपनी एंट्री करते रहते हैं. इस तरह से लगातार आपके पास युवाओं के डाटा जमा होते रहते है और आपको युवाओं के डाटा जमा करने के लिए बहुत अधिक भाग दौड़ करने की आवश्यकता नहीं होती है.

जाॅब एजेंसी शुरू करने पर सिर्फ आॅफीस खोलकर बैठ जाने से काम नहीं चलेगा. आपको युवाओं को जाॅब दिलवाने के लिए छोटी-बड़ी कंपनियों के एचआर से मिले, उन्हें अपने बिजनेस के बारे में जानकारी देनी होगी. उन्हें अपने यहां किस तरह के एम्प्लायर की आवश्यता है, उनकी शैक्षणिक योग्यता क्या होनी चाहिए, इसके अलावा क्या उन्हें अनुभवी या फेसर एम्प्लायर चाहिए आदि के बारे में डिटेल ले लें. इसके बाद आप अपने यहां रजिस्टेशन करवाने वाले युवाओं में से उनके लिए उपयुक्त एम्पलायर का चुनाव करके वहां भेंजे.

इस तरह से आप जाॅब एजेंसी के माध्यम से सभी प्रकार कि कंपनी, कारखाने, ऑफिस, प्रायवेट व सहकारी बैंक आदि को जहां एम्पलायर की जरूरत हैं उन्हें उनकी जरूरत अनुसार व्यक्ति उप्लबद्ध करवाकर अच्छी कमाई कर सकते हैं.

इसे भी पढ़े :-

Goat Farming : बकरी पालन गांव का एटीएम

Share Button

Related posts

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.