जान कर हो जाएंगे हैरान चाय की दुकान टर्नओवर करोड़ों में Millionaire Tea Shoppers

Business Maantra Chaiwala

जान कर हो जाएंगे हैरान चाय की दुकान टर्नओवर करोड़ों में Millionaire Tea Shoppers

 

चाय की दुकान का नाम आते ही गंदे ठेले या टपरे पर मिलने वाली दुकान की छवि बनती है. इस बिजनेस को अनपढ़ और गंवार लोगों का बिजनेस कहा जाता है. इसे यदि अच्छे से किया जाएं तो अच्छी कमाई हो सकती है. इस बात को कुछ लोगों ने समझा तभी तो उन्होंने चाय की दुकान शुरू कर करोड़ों की कमाई की.

यहां हम ऐसे चाय की दुकान वालों के बारे में जानकारी दे रहे हैं. जो चाय की दुकान से सालाना करोड़ों की कमाई करते हैं. बड़ी-बड़ी डिग्री प्राप्त इन चाय की दुकान वालों को आप कारपोरेट चायवाले कह सकते है. यहां हम इण्डिया के 8 हाई क्वालिफिकेशन वाले चाय की दुकान वालों के बारे में जानकारी दे रहे हैं. जिनके बिजनेस का टर्नओवर करोड़ों में है.

आइए जानते हैं उनके बारे में

 

चाय कालिंग Chai Calling

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले के रहने वाले इंजीनियर की डिग्री प्राप्त अभिनव शर्मा और प्रतीक टंडन दोनों ही एक बड़ी कंपनी में अच्छी सैलरी पर काम कर रहे थे. प्रतीक साॅफ्टवेयर इंजीनिर्यस है और अभिनव टंडन इलैक्ट्राॅनिक इंजीनियर है.

अचानक दोनों ने नौकरी छोड़ चाय की दुकान करने का प्लान बनाया. एक लाख रूपए खर्च कर उन्होंने चाय की दुकान की शुरूआत की. ‘चाय काॅलिंग’ नाम से अपना पहला स्टाॅल नोएडा सेक्टर-16 के मेट्रो स्टेशन पर शुरू किया. इनके द्वारा तैयार चाय का चस्का ऐसा लगा देखते ही देखते इनके चाय की दुकान पर चाय पीने वालों की लाइन लग गई.

जानकर हर किसी को यह ताज्जुब हो कि चाय की दुकान से दोनों दोस्तों ने कुछ ही समय में करोड़ों की कंपनी खड़ी कर ली. इसी चाय की दुकान से उन्होंने एक साल में 70 लाख रूपए कमाएं.

आज इनकी नेएडा में 6 चाय की दुकान और बरेली में 3 चाय की दुकान है. जल्दी ही अन्य शहरों में भी चाय कालिंग के आउटलेट शुरू करने वाले हैं. ‘चाय काॅलिंग’ के द्वारा दोनों ने 35 लोगों को रोजगार भी दे रखा है.

इन्होंने चाय की दुकान को बड़ी प्लानिंग के साथ किया. जिसकी वजह से इन्हें काफी अच्छा रिस्पांस मिला. इनके अनुसार, चाय की क्वालिटी, साफ-सफाई तथा तुरंत सर्विस की वजह से यह मुकाम हासिल कर पाएं.

 

इसे भी पढ़े :-

 

चाय प्वाइंट Chai point

अमुलीक सिंह बिजराल ने 2010 में बैंगलुरू में ‘चाय प्वाइंट’ नाम से चाय की दुकान शुरूआत की थी. तब से लेकर अब तक इनकी चाय की दुकान चाय प्वाइंट लगातार प्राॅफिट में है. बिजराल विभिन्न शहरों में इसकी श्रंखला शुरू करना चाहते हैं. जिसके तहत उन्होंने दिल्ली और पुणे में चाय की दुकान का आउटलेट शुरू भी कर दिया है.

‘चाय प्वाइंट’ में अलग-अलग फ्लेवर वाली चाय मिल जाएगी. यहां लेमन, जिंजर, मसाला, ग्रीन, शुगर फ्री, आइस लेमन, आइस ग्रीन आदि फ्लेवर वाली चाय मिल जाएंगी. प्रति माह लाखों की कमाई करने वाले ‘चाय प्वाइंट’ पर चाय पीने के बाद लोग बारबार आना पसंद करते हैं.  कुछ ही सालों में ‘चाय प्वाइंट’ लोगों के दिलों में जगह बना ली है.

चाय गरम Chai Garam

मेघना नरसान ने 2009 में हरियाणा के गुरूग्राम में ‘चाय गरम’ नाम से अपना पहला चाय की दुकान यानी चाय कैफे की शुरूआत की. देखते ही देखते यह पूरे गुरूग्राम में इनके चाय की दुकान ‘चाय गरम’ की पहचान बन गई. ‘चाय गरम’ कैफे पर चाय की ढ़ेर सारी वैरायटी सर्व की जाती है. इनकी यहां की चाय कारपोरेट आॅफिस और अन्य संस्थानों में सप्लाई दी जाती है. ‘चाय गरम’ की सालाना कमाई करोड़ी में है. मेघना अन्य बड़े शहरों में ‘चाय गरम’ कैफे शुरू करना चाहती है. इसकी प्लानिंग में लगी है.

टी पाॅट  Tea Pot 

दिल्ली के रहने वाले राॅबिन झा और अतीत कुमार वर्मा ने इंजीनियर्स की पढ़ायी थी. दोनों एक बड़ी कंपनी में लाखों के पैकेज पर जाॅब कर रहे थे. पर उनका मन अपने काम में नहीं लगता था. उन्हें हमेशा लगता था. दूसरे के काम करने की बजाए उन्हें अपना काम शुरू करना चाहिए. एक दिन दोनों ने अपना जाॅब छोड़ दिया.

अपना नया काम शुरू करने के लिए दोनों कुछ दिनों तक तैयारी करते रहे. सन् 2013 में दिल्ली के मालवीय नगर में उन्होंने ‘टी पाॅट’ नाम से चाय की दुकन की शुरूआत की. उनके यहां की चाय ने पहले ही दिन से लोगों पर असर डालना शुरू कर दिया था. आज दिल्ली में टी पाॅट के 50 से अधिक सेंटर है. इनकी सालाना कमाई करोड़ों में है.

 

इसे भी पढ़े :-

 

चायोस  Chaos

मुंबई में आईआईटी की पढ़ाई करने वाले दिल्ली के नितिन सलूजा और राघव वर्मा ने पढ़ाई कम्पलिट करने के बाद दोनों ने एक रोबोटिक कंपनी की शुरूआत की. रोबोटिक काम के दौरान उन्हें अपनी पसंद की चाय पीने के लिए काफी परेशान होना पड़ता था. इसके बाद भी उन्हें चाय की दुकान पर अच्छी चाय नहीं मिलती थी.

तब उनके मन में चाय की दुकान शुरू करने का आइडिया ध्यान आया. उन्होंने चाय के लिए एक ऐसी जगह की कल्पना की जहां आकर लोग शुकून के साथ बैठ कर अपनी पसंद की चाय की चुस्की ले सके. इसके साथ ही उन्होंने इस पर प्लानिंग करना शुरू कर दिया. कई महिनों के मेहनत के बाद उन्होंने चाय की दुकान ‘चायोस’ की नींव रखीं.

इनके आइडिया हिट कर गया. चायोस पर 25 से अधिक किस्म की चाय तैयार की जाती है. जिनमें खास कर आम पापड़ चाय, गुलाब इलायची चाय काफी फेमस है. ‘चायोस’ पर 10 रूपयों से लेकर 85 रूपयों तक की चाय सर्व की जाती है. चाय का रेट उनके फ्लेवर व क्वालिटी पर निर्भर होती है.

‘चायोस’  के दिल्ली में 7 आउटलेट हैं. जहां चाय पीने वालों की हमेशा भीड़ लगी रहती है. इनकी कंपनी की वैल्यू 100 करोड़ रूपयों से अधिक की है.

 

मुबंई का आॅनलाइन छोटू चायवाला Mumbai’s Online Chhotu Chaiwala

आॅनलाइन चाय की दुकान सुन कर बड़ा अजीब लग रहा होगा. इसमें अजीब कुछ नहीं है. आज जमाना आॅनलाइन का है. ऐसे में आॅनलाइन बेचा जा सकता है. यह बात मुबंई के छोटू चायवाला वाले को समझ में आ गयी. फिर क्या था. उसने जल्दी से आॅनलाइन छोटू चायवाला नाम से वेबसाइट तैयार की और चाय बेचना षुरू कर दिया.  उसके यहां आॅनलाइन आॅर्डर देने वालों की भीड़ लग गई.

बांद्रा इलाके में स्थित छोटू आॅनलाइन चायवाला रोजाना हजारों कप चाय बेच लेता है. उसने चाय बनाने और पहुंचाने के लिए कई लोगों को काम पर रखा है. रोजाना वआॅनलाइन चाय बेच कर लाखों की कमाई कर रहा है.

वह मुबंई शहर के कई इलाके में आॅनलाइन चाय सर्विस शुरू करने वाला है.यहीं नहीं उनका दूसरे शहरों में भी आॅनलाइन चाय की फ्रेंचाइजी देने का प्लान बन रहा है.

यदि आप भी आॅनलाइन चाय का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो हमारा युट्यिुब वीडियो ’आॅनलाइन चाय का बिजनेस’ देखें. इसके लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.

चाय 34 Chai 34

भोपाल के रहने वाले मधुर मल्होत्रा आस्ट्रेलिया में आईटी की पढ़ाई करने के बाद अच्छे पैकेज पर वहीं जाॅब कर रहे थे. इसी बीच उनके मां की तबीयत खराब हो गई. नौकरी छोड़ उन्हें अपने घर लौटना पड़ा. यहां आकर स्वस्थ्य होने के बाद अपने पिता के बिल्डिंग कंस्ट्रशन का कारोबार देखने लगे. पर इस बाम में उनका मन इसमें नहीं लगाता था. उनका मन कुछ अलग करने के लिए कहता था.

एक दिन अपने दोस्तों के साथ चाय पीते हुए चाय की दुकान शुरू करने का आइडिया उनके दिमाग में आया. इस बारे में दोस्तों और परिवार वालों से बात की तो किसी को यह बात पसंद नहीं आयी. मधुर ने किसी की बात पर ध्यान नहीं दिया. उन्होंने भोपाल के शिवाजी नगर में ‘चाय 34’ नाम से चाय की शाॅप शुरू कर दी.

‘चाय 34’ की चाय स्वाद ही नहीं बल्कि सर्विस स्टाइल भी उन्हें खास बनाता है. यहां चाय को मिट्टी के कुल्हड़ में सर्व किया जाता है. मिट्टी की सोंधी महक चाय के स्वाद को और भी बढ़ा देती है. ‘चाय 34’ में 20 से अधिक वैरायटी के चाय मिलते हैं.

 

येवले चाय हाउस Yevale Tea House

येवले चायवाला इन दिनों मीडिया और सोशल मीडिया पर काफी छाएं हुए है.  येवले चाय हाउस के मालिक नवनाथ येवले की पुणे में तीन चाय की दुकान है. इन पर करीब तीन दर्जन लोग काम करते हैं. येवले अपनी चाय की दुकान से प्रति माह 12 लाख रूपयों की कमाई करते हैं. येवले जल्द ही अपने टी हाउस को इंटरनेशनल ब्रांड बनाने जा रहे हैं.

अब आप समझ ही गए होंगे कि चाय की दुकान में कितना पोटेंशियल है.  कोई बिजनेस छोटा या बड़ा नहीं होता. बड़ी सोच के साथ किसी भी बिजनेस को शुरू करेंगे. उसका लाभ भी बड़ा ही मिलेगा.

फ्रेंड्स, जान हो जाएंगे हैरान चाय की दुकान टर्नओवर करोड़ों में डपससपवदंपतम जमं ेीवचचमते के बारे में दी गई जानकारी आपको पसंद आयी होगी. जानकारी पसंद आने पर लाइक, कमेंट और शेयर जरूर करें. बिजनेस व करियर से संबंधित किसी तरह के सवाल होने पर कमेंट बॉक्स में लिखें. हम जल्दी आपके सवालों का जवाब देने की कोशिश करेंगे.  (Copyright Business Maantra)

 

इसे भी पढ़े :-

रेस्टोरेंट बिजनेस | Restaurant business

Share Button

Related posts

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.